मध्यप्रदेश न्यूज़: भारतीय न्याय संहिता नया भारत नया विधान के सम्बंध में दी नगर के गणमान्य नागरिको को जानकारी।

Jul 2, 2024 - 08:05
Jul 2, 2024 - 12:46
 0  15
मध्यप्रदेश न्यूज़: भारतीय न्याय संहिता नया भारत नया विधान के सम्बंध में दी नगर के गणमान्य नागरिको को जानकारी।
  • बैतूल कोतवाली एवं गंज थाने में भारतीय न्याय संहिता नया भारत नया विधान के सम्बंध में दी नगर के गणमान्य नागरिको को जानकारी,आईपीसी को हटाया गया अब बीएनएस के तहत दर्ज होंगे मामले

 मध्यप्रदेश के बैतूल में अंग्रेजो के थोपे कानून से भारतीयों को 2024 मे मिली आज़ादी अब भारत में भारतीय  विधान दण्ड संहिता को हटाकर। भारतीय  न्याय संहिता कानून का होगा पालन बता दे की बैतूल कोतवाली थाना एवं गंज थाने में भारतीय न्याय संहिता कानून की विस्तृत जानकारी देते हुए सहायक पुलिस अधीक्षक कमला जोशी ने बताया कि नया कानून आरोपी को दण्डित करने के उद्देश्य नही बनाए गए बल्कि आरोपी को आरोप करने जैसी स्थिति से बच सके या दोबारा वह अपराध ना हो इसका मुख्य उद्देश्य है। रात्रि 30जून के बाद से जो भी अपराध हुए हैं उन अपराधों में नए कानून के तहत ही कार्यवाही की जायेगी।

इस सम्बंध में गंज थाना प्रभारी रविकांत डहेरिया ने भी   कानून के सम्बंध में जानकारी दी। वही कोतवाली में कोतवाली प्रभारी देवकरण डेहरिया ने उपस्थित जनसमूह को जानकारी दी गई

बता दे कि भारतीय न्याय संहिता (बीएनएस) में आईपीसी के अधिकांश अपराधों को बरकरार रखा गया है। इसमें सामुदायिक सेवा को भी सज़ा के रूप में शामिल किया गया है। राजद्रोह अब अपराध नहीं रहा। इसके बजाय, भारत की संप्रभुता, एकता और अखंडता को खतरे में डालने वाले कृत्यों के लिए एक नया अपराध बनाया गया है।   

बीएनएस ने आतंकवाद को अपराध की श्रेणी में शामिल किया है। इसे  ऐसे कृत्य के रूप में परिभाषित किया गया है जिसका उद्देश्य देश की एकता, अखंडता और सुरक्षा को ख़तरा पहुंचाना, आम जनता को डराना या सार्वजनिक व्यवस्था को बिगाड़ना है। संगठित अपराध को अपराध की श्रेणी में शामिल किया गया है।

इसमें अपहरण, जबरन वसूली और साइबर अपराध जैसे अपराध शामिल हैं जो किसी अपराध सिंडिकेट की ओर से किए जाते हैं। छोटे-मोटे संगठित अपराध भी अब अपराध की श्रेणी में आ गए हैं। जाति, भाषा या व्यक्तिगत विश्वास जैसे कुछ पहचान चिह्नों के आधार पर पांच या अधिक व्यक्तियों के समूह द्वारा हत्या करना अपराध माना जाएगा, जिसके लिए सात वर्ष से लेकर आजीवन कारावास या मृत्युदंड तक की सजा हो सकती है। 

शशांक सोनकपुरिया, बैतूल मध्यप्रदेश

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow

inanews आई.एन. ए. न्यूज़ (INA NEWS) initiate news agency भारत में सबसे तेजी से बढ़ती हुई हिंदी समाचार एजेंसी है, 2017 से एक बड़ा सफर तय करके आज आप सभी के बीच एक पहचान बना सकी है| हमारा प्रयास यही है कि अपने पाठक तक सच और सही जानकारी पहुंचाएं जिसमें सही और समय का ख़ास महत्व है।