मध्यप्रदेश न्यूज़: बैतूल में उड़ाई जा रही है सूचना के अधिकार अधिनियम की धज्जियां, चालान जमा करने के 2 माह बाद भी नही दी गई जानकारी।

Jul 2, 2024 - 14:50
 0  52
मध्यप्रदेश न्यूज़: बैतूल में उड़ाई जा रही है सूचना के अधिकार अधिनियम की धज्जियां, चालान जमा करने के 2 माह बाद भी नही दी गई जानकारी।
  • रामपुर भतोड़ि परियोजना बैतूल में उड़ाई जा रही है सूचना के अधिकार अधिनियम की धज्जियां, चालान जमा करने के 2 माह बाद भी नही दी गई जानकारी। 

मध्यप्रदेश के बैतूल में मध्यप्रदेश वन विकास निगम की अफसरशाही इतनी हावी है कि बाबू खुद ही अपने आप को साहब समझ रहे है और विभाग के आलाधिकारी डीएम डबल प्रभार के चलते आते ही नही बैतूल यही कारण है कि 2 माह बीत जाने के बावजूद भी सूचना के अधिकार के तहत सही जानकारी नही दी जा रही है और तो और इस मामले में शिकायत भी की जा चुकी है पर आज दिनांक तक इस मामले में जांच तो दूर की बात है इस मामले की तरफ डीएम देखना भी उचित नही समझा।

यहाँ आपको बता दें कि सूचना के अधिकार अधिनियम के तहत एक आम व्यक्ति भी किसी भी विभाग की जानकारी ले सकता है सरकार ने ये नियम इसीलिए लागू किया था कि आम आदमी को सरकारी दफ्तर में हो रहे किसी भी काम की निष्पक्ष और पूरी जानकारी उपलब्ध हो सके ताकि पारदर्शिता बनी रहे पर रामपुर भतोड़ि परियोजना के कार्यालय में अफसर शाही और बाबूगिरी का इस कदर बोलबाला है कि सूचना अधिकार अधिनियम के तहत जानकारी मांगने पर एक तो आधी अधूरी जानकारी का लेटर जारी किया जाता है।

वहीं चालान जमा करने के बाद बताया जाता है चाहे गए बिंदुओं पर जानकारी देना संभव नही है जबकि नियम अनुसार जिन बिंदुओ पर जानकारी मांगी जा रही है उसके बारे जारी लेटर में बताना आवश्यक है कि चाहे गए बिंदुओं में से निम्न 1,2,3 जानकारी दी जाना सम्भव नही है पर यहाँ तो बाबू गुमराह करने का कार्य कर रहे है चालान की राशि का उल्लेख कर रहे है पर यह नही बता रहे कि कितने बिंदुओं की जानकारी के लिए चालान की राशि बताई जा रही है।

इस तरह बाबू राज में सूचना के अधिकार अधिनियम की जानकारी मांगने वालों को विभाग का बाबू गुमराह कर रहा है। अब देखना यह होगा कि उच्चस्तरीय जांच कर क्या कार्यवाही की जाती है और सूचना के तहत मांगी गई जानकारी राशि  जमा करने के उपरांत भी जानकारी नही दी गई है क्या अधिकारी सही जानकारी उपलब्ध करवा पाएंगे या नही।

जबकि पत्रकार द्वारा जानकारी के लिए पूरी राशि का चालान भी जमा कर चुके है पर आज तक जानकारी उपलब्ध नही करवाई गई है ।

शशांक सोनकपुरिया, बैतूल मध्यप्रदेश

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow

inanews आई.एन. ए. न्यूज़ (INA NEWS) initiate news agency भारत में सबसे तेजी से बढ़ती हुई हिंदी समाचार एजेंसी है, 2017 से एक बड़ा सफर तय करके आज आप सभी के बीच एक पहचान बना सकी है| हमारा प्रयास यही है कि अपने पाठक तक सच और सही जानकारी पहुंचाएं जिसमें सही और समय का ख़ास महत्व है।