Breaking
Tue. May 28th, 2024

सीतापुर न्यूज़: पाल्हापुर नृशंस हत्याकांड में परत-दर-परत उठ रहा पर्दा, जल्द ही खुलासे की उम्मीद, पढ़ें पूरी खबर।

By inanews.org May16,2024
Sitapur News The curtain is being lifted layer by layer in Palhapur brutal murder case, hope for revelation soon

क्राइम ब्रांच व एसटीएफ टीमों की जांच पड़ताल प्रक्रिया तेज, जल्द ही खुलासे की उम्मीद, शासन स्तर से भी घटनाकांड के खुलासे पर रखी जा रही नजर, सूत्र बतातें हैं पुलिस महकमे से शुरू हुआ जवाब-तलब

महमूदाबाद/सीतापुर। रामपुर मथुरा के पाल्हापुर गांव में हुए नृसंश हत्याकांड की उलझी गुत्थी पुलिस के लिए गले की फांस बनती जा रही है। काफी प्रयासों के बाद भी अजीत घटना को अंजाम देने में किसी अन्य की भूमिका को नकार रहा है। पुलिस इतनी बड़ी जघन्य वारदात को केवल अजीत द्वारा अंजाम दिए जाने की बात कह रही है, किंतु लोगों के गले से पुलिस की कहानी नहीं उतर रही है। पुलिस अधीक्षक चक्रेश मिश्र बुधवार को सुबह फिर कोतवाली महमूदाबाद पहुंचे और हिरासत में लिए गए सभी से बारी-बारी पूंछतांछ की।

सूत्र बताते हैं कि क्राइम ब्रांच, एसटीएफ और सीतापुर पुलिस की संयुक्त टीमों द्वारा अजीत सिंह से कई बार पूंछतांछ के बाद भी व घटनाक्रम को अकेले अंजाम देने की बात स्वीकार कर रहा है। सूत्र बताते हैं कि अजीत ने बताया कि उसने लखनऊ से वापस आने के बाद एक मेडिकल स्टोर से नींद की दवाई खरीदी थी। वह शाम करीब आठ बजे घर पहुंचा और नशीली दवा घर में बनी खिचड़ी में मिलाई किंतु किसी के खाना न खाने की वजह से उसका सारा प्लान फेल हो गया।

रात में उसने पहले छत में एसी लगे कमरे में सो रही अनुराग की पत्नी प्रियंका सिंह के एसी का तार काट दिया। प्रियंका जब कमरे में उमस बढ़ने पर बाहर निकली तो अजीत ने कहासुनी के बाद उसे गोली मार दी और सिर हथौड़ी से कूचने लगा। गोली की आवाज चलने पर मां सावित्री देवी छत पर आ गईं और माजरा देख अजीत से भाग जाने की बात कहने लगीं। इसपर आक्रोशित अजीत ने मां के सिर पर भी हथौड़ी वार कर घायल कर दिया।

अजीत की क्रूरता देख मां सावित्री सर के घाव को धोती के पल्लू से दबाते हुए नीचे भागीं। पीछे से नीचे उतरकर आए अजीत ने मां को गोली मार दी। इसके बाद वह अनुराग के कमरे में पहुंचा और उसकी गर्दन पर गाली मार दी। इसके बाद वह ऊपर पहुंचा और बड़ी बेटी आश्वी को जगाकर यह कहकर नीचे ले आया कि देखो चलकर तुम्हारे पापा के सिर में खून निकल रहा है। आश्वी सिर की ओर खड़ी हो झुककर जब अनुराग को देखने लगी तो अजीत ने कोख से सटाकर गोली चला दी जो आश्वी के पेट को चीरती हुई अनुराग के सिर में जाकर फंस गई।

इसके बाद वह ऊपर आया और बेटी आरना व बेटे आदविक को कमरे से निकालकर नीचे फेंक दिया। वारदात को अंजाम देने के बाद अजीत ने सुबूत मिटाने की भी कोशिश की थी। वारदात को अंजाम देने के लिए उसने काफी दिनों से प्लान बनाया था। उसे पक्की जानकारी थी कि शुक्रवार को अनुराग की पत्नी प्रियंका अपने बच्चों के साथ गांव आएगी।

इसलिए उसने स्कूल से आन लाइन मेडिकल लीव ली और अपनी पत्नी बच्चों को ससुराल छोंडकर घर वापस आ गया। बीईओ उदयमणि पटेल ने बताया कि 10 मई को उसने एक दिन का आकस्मिक चिकित्सीय अवकाश लिया था और उसके बाद से वे लगातार बिना जानकारी अनुपस्थित हैं। पुलिस अभिरक्षा में अजीत के होने की जानकारी मिली है, बीएसए को पूरी रिपोर्ट बनाकर भेज दी गई है।

परिजन और रिश्तेदारों से पुलिस लगातार कर रही सवाल जवाब

बुधवार को सुबह एसपी चक्रेश मिश्र करीब साढ़े 11 बजे महमूदाबाद कोतवाली पहुंचे और लोगों से हो रही पूंछतांछ की मॉनिटरिंग करते रहे। क्राइम ब्रांच व सीतापुर की संयुक्त पुलिस टीमों द्वारा ताऊ आरपी सिंह, चचेरे भाई आशुतोष सिंह, बहनोई अकलेंद्र सिंह, प्रभाकर सिंह, अमरेंद्र सिंह, सुनील कुमार, शशि भूषण सिंह, रवि भूषण सिंह, चालक सर्वेश, अजीत के ससुर अजय कुमार सिंह, साले विवेक सिंह, पत्नी विभा सिंह, उमेश सिंह सहित 16 लोगों से क्रमवार अलग-अलग आमने-सामने बैठाकर पूंछतांछ की गई।

मृतका के भाई का आरोप अकेले अजीत नही दे सकता घटना को अंजाम

मृतका प्रियंका सिंह के भाई अंकित सिंह ने बताया कि पुलिस के खुलासे से संतुष्ट हैं। किंतु एक ही व्यक्ति घटना को अंजाम दे सकता है इस बात से संतुष्ट नहीं हैं। घटना में शामिल अन्य लोगों को भी पुलिस बेनकाब करे। इसमें वे लोग और शामिल हैं, जिन्हें अनुराग की मौत के बाद संपत्ति का लाभ मिल सकता है।

भाग जा तू जानता नहीं ये क्या कर दिया है।

अनुराग नशे में था। लेकिन मां सावित्री गोली की आवाज सुनकर ऊपर आ गई। उन्होंने प्रियंका को खून से लथपथ और पास खड़े अजीत को देखा।उसके कपड़ों पर खून लगा था। मां को एहसास हो गया था कि अजीत ने बहू की हत्या कर दी। उन्होंने अजीत से कहा- तू भाग जा, तू जानता नहीं, क्या कर दिया है? लेकिन अजीत के सिर पर खून सवार था।
उसने मां की बात अनसुनी कर दी। उसने कहा- तू भी सदैव अनुराग का ही साथ देती है।यह कहकर फिर उसने मां के सिर पर भी हथौड़े से वार कर दिया। मां सावित्री के सिर से खून निकलने लगा। वह साड़ी से अपना खून रोकते हुए नीचे आ गईं। पीछे-पीछे अजीत भी नीचे आ गया। उसने देखा कि मां सावित्री जिंदा हैं, तो उसने उनके सिर पर फिर से वार कर दिया। मौके पर ही मौत हो गई।

अजीत की इनकम सीमित, जबकि अनुराग की कमाई लाखों में

पुलिस ऑफिसर ने बताया- छोटे भाई अजीत की इनकम सीमित थी। टीचर की नौकरी में व्यस्तता के कारण वह अपने हिस्से की जमीन में ढंग से खेती भी नहीं कर पाता था। दूसरी ओर उसे हार्ट से जुड़ी बीमारी भी थी। इसमें हर महीने काफी रुपए खर्च हो रहे थे। सीतापुर के महमूदाबाद में हाल ही में उसने लोन लेकर घर बनवाया था, जिसकी किस्त भी वह प्रति महीने भर रहा था।दो बेटियों की पढ़ाई से लेकर घर के सभी खर्च उसकी सैलरी पर ही निर्भर था।

इसके बाद पिता का लोन। अब वह आर्थिक रूप से परेशान था। दूसरी ओर अनुराग की खेती से लाखों की इनकम, उसकी पत्नी की अच्छी नौकरी थी। ये सब भी उसे अखरने लगी। उसके बार-बार कहने के बाद भी अनुराग लोन नहीं चुका रहा था। इसे लेकर आए दिन विवाद भी होता रहता था। अजीत इन सबके लिए अपनी भाभी प्रियंका को भी दोषी मानता था। उसका मानना था कि भाभी ही अनुराग को लोन न जमा करने के लिए उकसाती थी।

जल्द नहीं हुआ खुलासा तो किसान संगठन करेंगे आंदोलन-परमजीत सिंह

महमूदाबाद/सीतापुर। घटना का जल्द और सही खुलासा न होने पर किसान यूनियन ने आंदोलन की चेतावनी दी है। किसान यूनियन के परमजीत सिंह से अपनी फेसबुक पर पोस्ट कर लिखा है कि प्रगतिशील किसान अनुराग सिंह और उनके पूरे परिवार की हत्या को पहले पुलिस और भाई अजीत सिंह द्वारा अनुराग सिंह द्वारा सबकी हत्या का दोषी होना बताया गया था, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट और मृतक प्रियका के भाई द्वारा आरोपों बाद मामले में नया मोड़ आया और अजीत सिंह द्वारा घटना को अंजाम दिया जाना पुलिस द्वारा बताया जाने लगा।

लेकिन अभी तक पुलिस द्वारा इस घटना का पूर्ण रूप से खुलासा नहीं किया है। संयुक्त किसान मोर्चा सीतापुर सहित सभी किसान संगठनों ने घटना के जल्द खुलासे की मांग करते हुए कहा कि दोषियों का केस फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाकर जल्द से जल्द फांसी की मांग दी जाय। आगे लिखा है कि अगर जल्द खुलासा नहीं हुआ तो किसान संगठन आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *